भारतीय नौसेना की ताकत में होगा इजाफा, सरकार ने दूसरे स्वदेशी विमानवाहक पोत की दी मंजूरी; इतना आएगा खर्च

Advertisement

भारतीय नौसेना की ताकत में होगा इजाफा, सरकार ने दूसरे स्वदेशी विमानवाहक पोत की दी मंजूरी; इतना आएगा खर्च

प्रियंका कुमारी(संवाददाता) 

सरकार लगभग 40,000 करोड़ रुपये की लागत से दूसरे विमान वाहक पोत के निर्माण के भारतीय नौसेना के प्रस्ताव पर सकारात्मक रूप से विचार करने के लिए तैयार है, यह एक बड़ा कदम है जो हिंद महासागर क्षेत्र में चीन की बढ़ती घुसपैठ पर बढ़ती चिंताओं की पृष्ठभूमि में आया है।

शीर्ष सरकारी सूत्रों ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया कि रक्षा मंत्रालय की एक प्रमुख संस्था रक्षा खरीद बोर्ड (डीपीबी) ने महत्वाकांक्षी प्रस्ताव को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। इस मंजूरी से सरकार दूसरे स्वदेशी विमान वाहक के लिए तैयार होने का संकेत दे रही है, जिसे आईएसी द्वितीय के नाम से जाना जाएगा।

इस मेगा खरीद का प्रस्ताव जल्द DAC के सामने होगा

उन्होंने कहा कि मेगा खरीद प्रस्ताव जल्द ही रक्षा मंत्रालय की खरीद पर शीर्ष संस्था रक्षा अधिग्रहण परिषद (डीएसी) के समक्ष रखा जाएगा। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाली डीएसी की गुरुवार को बैठक होने की संभावना है और यह पता चला है कि आईएसी-द्वितीय के प्रस्ताव की जांच की जाएगी।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाली डीएसी की गुरुवार को बैठक होने की संभावना है और यह पता चला है कि आईएसी-द्वितीय के प्रस्ताव की जांच की जाएगी। सूत्रों ने कहा कि डीएसी 1.15 लाख करोड़ रुपये की लागत से 97 तेजस मार्क-1ए विमानों के अतिरिक्त बैच की खरीद के लिए भारतीय वायु सेना के प्रस्ताव पर भी विचार कर सकती है।

40 हजार करोड़ रुपये की लगेगी लागत

नौसेना 45,000 टन के विस्थापन के साथ IAC-II के लिए जोरदार प्रयास कर रही है। जिसकी अनुमानित विशिष्टताओं के साथ लागत 40,000 करोड़ रुपये के करीब होने का अनुमान है। भारत के पहले स्वदेश निर्मित विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रांत (आईएसी I) को सितंबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कमीशन किया गया था।

Leave a Comment

Advertisement
What does "money" mean to you?
  • Add your answer