भगोड़े नीरव मोदी को लेकर ब्रिटेन से आई ये बड़ी खबर, जानें क्यों अचानक बदली गई जेल

नीरव मोदी, भारत से भगोड़ा- India TV Hindi

प्रियंका कुमारी (संवाददाता)

भारत में बैंक फ्रॉड कर विदेश फरार होने वाले भगोड़े नीरव मोदी को लेकर बड़ी खबर आ रही है। अचानक ब्रिटेन में नीरव मोदी की जेल बदल दी गई है। मगर ऐसा करने की जरूरत क्यों पड़ी, आखिर नीरव मोदी की जेल को क्यों बदलना पड़ा, क्या जेल में उसे कोई खतरा था या फिर वह जेल नीरव मोदी के लिए सुरक्षित नहीं थी, कहीं वह जेल से भागने वाला तो नहीं था?…यह भी आपको बताएंगे मगर सबसे पहले आपको बताते हैं कि नीरव मोदी को किस जेल में अब रखा गया है।

उल्लेखनीय है कि भारत में वांछित और भगोड़े हीरा व्यापारी नीरव मोदी को ब्रिटेन की सबसे बड़ी और सबसे भीड़भाड़ वाली जेलों में से एक से लंदन में एक निजी तौर पर संचालित जेल में स्थानांतरित किया गया है। नीरव भारत में धोखाधड़ी और धन शोधन के मामलों में वांछित है। बृहस्पतिवार को यह जानकारी मिली। नीरव (52) को असफल प्रत्यर्पण अपील कार्यवाही के संबंध में लंदन में उच्च न्यायालय द्वारा लगाए गए 150,247.00 पाउंड के जुर्माने के संबंध में मजिस्ट्रेट की अदालत में सुनवाई के लिए पेश होना था। हालांकि, मामले को अंतिम क्षण में नवंबर तक के लिए स्थगित करना पड़ा क्योंकि पूर्वी लंदन में बार्किंगसाइड मजिस्ट्रेट अदालत में नीरव को तकनीकी कारणों से वीडियो लिंक से पेश नहीं किया जा सका।

जेल से भागने की फिराक में था नीरव

अदालत के एक अधिकारी ने कहा, “उसे आंतरिक स्थानांतरण के तहत एचएमपी (हिज मैजेस्टी प्रिजज) वैंड्सवर्थ से एचएमपी टेम्ससाइड में स्थानांतरित कर दिया गया था, जिसके बारे में अदालत को आज तक जानकारी नहीं थी।’’ दरअसल, वैंड्सवर्थ जेल से एक संदिग्ध आतंकवादी फरार हो गया था, जिसके बाद उसकी तलाशी के लिए अभियान शुरू किया गया था। इस घटना के बाद नीरव को स्थानांतरित करने की सूचना मिली है। इसका मतलब है कि नीरव मोदी के भी जेल से भागने की आशंका थी। डेनियल खलीफ को बाद में पकड़ कर जेल में बंद कर दिया गया है। मगर नीरव मोदी को दूसरे जेल में स्थानंतरित कर दिया गया।

नीरव ने किया है 2 अरब अमेरिकी डॉलर का ऋण घोटाला

ब्रिटेन के न्याय मंत्री एलेक्स चैक ने इस महीने के शुरू में मीडिया से कहा था कि सुरक्षा में चूक के बाद जेल से 40 कैदियों को स्थानांतरित किया गया। अब प्रतीत होता है कि नीरव भी उन 40 कैदियों में था और दक्षिण पश्चिम लंदन में उसे अब टेम्ससाइड जेल में रखा गया है और इस जेल में भी कथित रूप में अधिक संख्या में कैदी बंद हैं। हालांकि, जेल में सुरक्षा का स्तर पहले वाला ही रहेगा। नीरव (52) अनुमानित तौर पर दो अरब अमेरिकी डॉलर के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ऋण घोटाला मामले में भारत में प्रत्यर्पित किए जाने के खिलाफ ब्रिटेन की उच्चतम न्यायालय में अपनी कानूनी लड़ाई पिछले साल हार गया था।

Leave a Comment

[democracy id="1"]