भूख के बाद अब “प्यास” से भी मरेगा पाकिस्तान, भारत करने वाला है पाक का हुक्का-पानी बंद

पाकिस्तान में पीने के पानी के लिए लगी लंबी लाइन।- India TV Hindi

प्रियंका कुमारी (संवाददाता)

आर्थिक तंगी के चलते भूखों मरता पाकिस्तान अब अपनी बदनीयती की वजह से प्यासे भी मरेगा। आतंकियों का पनाहगार बने पाकिस्तान का हुक्का-पानी बंद होने वाला है। भारत अब पाकिस्तान के साथ सिंधु नदी जल समझौते पर आगे नहीं बढ़ना चाहता। इससे पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़नी तय हैं। इस मामलें में भारत ने वियना में एक तटस्थ विशेषज्ञ द्वारा बुलाई बैठक में अपना वक्तव्य दे दिया है। बता दें कि जम्मू-कश्मीर के किशनगंगा और रतले पनबिजली परियोजनाओं पर भारत और पाकिस्तान के बीच विवाद पैदा हो गया है। पाकिस्तान इस विवाद का समाधान चाहता है। मगर आतंक फैलाने वाले पाकिस्तान को भारत अब पानी नहीं देना चाहता। यह बैठक इसके समाधान के उद्देश्य से कार्यवाही का हिस्सा थी।

भारत के विदेश मंत्रालय के अनुसार देश के मुख्य अधिवक्ता हरीश साल्वे इस बैठक में मौजूद रहे। ‘‘जल संसाधन विभाग के सचिव के नेतृत्व में भारत के एक प्रतिनिधिमंडल ने 20 और 21 सितंबर को वियना में स्थायी मध्यस्थता न्यायालय में किशनगंगा और रतले मामले में तटस्थ विशेषज्ञ की कार्यवाही की बैठक में भाग लिया।’ भारत ने अपना पक्ष मध्यस्थता न्यायालय में दे दिया है। इससे पाकिस्तान में खलबली मच गई है। अगर भारत ने पाकिस्तान का पानी बंद किया तो उसे प्यासों मरने से कोई नहीं बचा सकता।

भीख के कटोरे के बाद अब पाकिस्तान को बाल्टी पकड़ाएगा भारत

पाकिस्तान की आर्थिक हालत इस कदर बदहाल हो गई है कि वहां लोगों को दो वक्त की रोटी के लाले पड़े हैं। पाकिस्तान भूख से तड़प रहा है। आटे, दाल और चावल के लिए लोग आपस में छीना-झपटी और मारपीट तक कर रहे हैं। पाकिस्तान के आंतरिक हालात की ये तस्वीरें पूरी दुनिया देख रही है। महंगाई पाकिस्तान में लोगों की कमर तोड़ चुकी है। पाकिस्तानियों को भरपेट भोजन भी नसीब नहीं हो रहा। अभी तक पाकिस्तान भूख और आर्थिक बदहाली का मारा है, लेकिन अब उसके प्यासों मरने की भी नौबत आ गई है। भारत ने पहले उसे दर-दर कटोरा लेकर भीख मांगने को मजबूर किया था। अब यही भारत उसे बाल्टी पकड़ाने जा रहा है। क्योंकि पाकिस्तान की हरकतें ही कुछ ऐसी हैं। दरअसल भारत पाकिस्तान के साथ सिंधु नदी जल समझौता तोड़ने के मूड में है। इससे पाकिस्तान भारत के सामने गिड़गिड़ाने लगा है। अगर भारत ने यह समझौता तोड़ दिया तो पाकिस्तान को प्यासे मरने की नौबत आ जाएगी। फिर वह बाल्टी लेकर भटकेगा।

1960 में हुई थी भारत-पाकिस्तान में सिंधु जल संधि

भारत ने संधि के विवाद निवारण तंत्र का पालन करने से पाकिस्तान के इनकार के मद्देनजर इस्लामाबाद को जनवरी में नोटिस जारी कर सिंधु जल संधि की समीक्षा और उसमें संशोधन की मांग की थी। यह संधि 1960 में विश्व बैंक की मध्यस्थता में सीमा-पार नदियों के संबंध में दोनों देशों के बीच हुई थी। भारत अब पाकिस्तान की आतंकी गतिविधियों के चलते इस समझौते पर और आगे बढ़ने के मूड में नहीं है। मगर पाकिस्तान भारत से दया दिखाने की अपील कर रहा है। पाकिस्तान को पता है कि यदि भारत ने उसका पानी बंद कर दिया तो बुरा हाल हो जाएगा।

Leave a Comment