‘निज्जर हत्याकांड पर शेयर नहीं की कोई जानकारी’, विदेश मंत्रालय ने कहा- आतंकियों का पनाहगार बना कनाडा

आतंकियों का पनाहगार बना कनाडा, पाकिस्तान कर रहा मदद', विदेश मंत्रालय की  खरी-खरी - canada becoming the safe haven for the terror activities plans to  reduce canadian diplomats said india tlifwe -

  1. राजनीति से प्रेरित हैं कनाडा के आरोप: विदेश मंत्रालय
  2. हरदीप सिंह निज्जर की मौत पर जस्टिन ट्रूडो ने भारत के खिलाफ की टिप्पणी
  3. भारत ने कनाडा के नागरिकों के लिए वीजा सेवा निलंबित की

प्रियंका कुमारी (संवाददाता)

भारत और कनाडा के बीच राजनयिक विवाद गहराता जा रहा है। इसी बीच गुरुवार को भारतीय विदेश मंत्रालय का बयान सामने आया। विदेश मंत्रालय ने कनाडा पर राजनीति से प्रेरित होकर बयान देने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि खालिस्तान समर्थक आतंकी हरदीप सिंह निज्जर से संबंधित कोई भी जानकारी हमारे साथ साझा नहीं की गई है। कनाडा द्वारा लगाए गए आरोप राजनीति से प्रेरित हैं।

अरिंदम बागची ने क्या कुछ कहा?

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने गुरुवार को होने वाली साप्ताहिक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कनाडा को लेकर विस्तृत बातचीत की। इस दौरान उन्होंने कहा कि हां, हमने कनाडा सरकार को बताया कि हमारी पारस्परिक राजनयिक उपस्थिति में समानता होनी चाहिए। उनकी संख्या कनाडा में हमारी संख्या से कहीं ज्यादा अधिक है… मेरा मानना है कि कनाडा की ओर से कमी की जाएगी।

क्या है भारत का स्टैंड?

अरिंदम बागची ने कहा कि हां, मुझे लगता है कि यहां कुछ हद तक पूर्वाग्रह है। उन्होंने (कनाडा) आरोप लगाए हैं और उन पर कार्रवाई की है। उन्होंने कहा कि हमें ऐसा लगता है कि कनाडा सरकार द्वारा लगाए गए आरोप मुख्य रूप से राजनीति से प्रेरित हैं।

वीजा सेवा पर रोक

इसी बीच विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कनाडा में वीजा सेवाओं की मौजूदा स्थिति के बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आप कनाडा में हमारे उच्चायोग और दूतावासों पर हो रहे सुरक्षा खतरों से अवगत हैं। इसकी वजह से उनका सामान्य कामकाज बाधित हुआ है। ऐसे में हमारे उच्चायोग और वाणिज्य दूतावास अस्थायी रूप से वीजा सेवाओं पर काम करने में असमर्थ हैं। हम नियमित आधार पर स्थिति की समीक्षा करेंगे।

वहीं, विदेश मंत्रालय ने कनाडा पर आतंकियों को पनाह देने का आरोप लगाया। अरिंदम बागची ने कहा कि कनाडा आतंकी गतिविधियों का केंद्र बन रहा है और वह आतंकियों, चरमपंथियों के लिए पनाहगार बना है। मुझे लगता है कि कनाडा को अपनी अंतरराष्ट्रीय छवि के बारे में चिंता करने की जरूरत है।

Leave a Comment