Budhwar Upay: आज गणेश जी को अर्पित करें ये 1 चीज, बिजनेस से जुड़े कार्य में जरूर मिलेगी सफलता

बुधवार के उपाय: नौकरी में तरक्की के लिए गणेश जी को चढ़ाएं ये चीजें - Budhwar  Ke Upay If you want to get progress then offer these things to Ganesh

प्रियंका कुमारी (संवाददाता)

Budhwar Ke Upay: बुधवार के दिन भगवान गणेश की पूजा का विधान है। इस दिन गौरीपुत्र गजानन की पूजा करने से घर में सुख-समृद्धि आती है। मालूम हो कि अभी गणेश चतुर्थी का त्यौहार भी चल रहा है। बुधवार को गणेश उत्सव का दूसरा दिन है। ऐसे में आज बप्पा की उपासना करने से दोगुना लाभ मिलेगा। इसके अलावा आज के दिन गणेश जी के कुछ विशेष उपायों को करने से जीवन में चल रही तमाम परेशानियों से भी मुक्ति मिलेगी।

1. अगर आप बिजनेस संबंधी कार्यों में लाभ सुनिश्चित करना चाहते है तो आज भगवान श्री गणेश की विधि-पूर्वक पूजा करें। पूजा के समय थोड़े से अक्षत लेकर श्री गणेश को तीन बार में अर्पित करें और हर बार श्री गणेश को अक्षत अर्पित करते समय भगवान गणेश के इस मंत्र का जप करें। मंत्र है- ‘श्री गणेशाय नमः’।

2. अगर आप अपनी आर्थिक तरक्की की गति को भविष्य में निरंतर बनाये रखना चाहते हैं तो आज के दिन हल्दी की पांच साबुत गाठें और एक रूपये का सिक्का लेकर, एक पीले रंग के कपड़े में रखकर बांध दें। फिर उस कपड़े को अपने घर के मंदिर में रखें और अपने गुरु या अपने ईष्ट देव का ध्यान करते हुए घी का एक दीपक जलाएं। जब दीपक जलते –जलते अपने आप बुझ जाये, तब उस हल्दी और एक रुपये का सिक्का बंधे पीले रंग के कपड़े को मंदिर से उठाकर अपनी तिजोरी या अलमारी में रख लें।

3. अगर आप आज के दिन अपने किसी महत्वपूर्ण कार्य से बाहर जा रहे हैं या अपनी किसी बिजनेस मीटिंग के लिए जा रहे हैं तो आज के दिन केसर का तिलक लगाकर जायें। अगर केसर उपलब्ध न हो तो हल्दी का तिलक मस्तक पर लगाकर जाएं।

4. अगर आप अपनी कोई खास इच्छा पूरी करना चाहते हैं तो आज आपको एक मिट्टी की दियाली में कपूर के टुकड़े रखकर, अपनी इच्छा कहते हुए जलाने चाहिए और जलाने के बाद उस दियाली को एक दूसरी दियाली से ढक्कर भगवान श्री गणेश के सामने रख दें।

5. अगर आप अपनी बौद्धिक क्षमता में बढ़ोतरी करना चाहते हैं, तो आज के दिन विशाखा नक्षत्र के दौरान स्नान आदि के बाद, साफ कपड़े पहनकर विशाखा नक्षत्र के स्वामी देव गुरु बृहस्पति का ध्यान करते हुए उनके इस मंत्र का 21 बार जप करें। मंत्र इस प्रकार है- ‘ऊँ ऐं क्लीं बृहस्पतये नमः।’

6. अगर आपके परिवार के किसी सदस्य की सेहत कुछ दिनों से ठीक नहीं चल रही है तो उनके स्वास्थ्य की बेहतरी के लिए आज के दिन बेसन से कोई मीठी चीज बनाएं। अब उसका भोग सबसे पहले भगवान को लगाएं। उसके बाद उस बचे हुए प्रसाद को छोटे बच्चों में बांट दें और जिस व्यक्ति का स्वास्थ्य ठीक नहीं चल रहा उनको भी थोड़ा-सा प्रसाद खाने के लिए दें।

7. अगर आप अपने जीवन में समृद्धि पाना चाहते हैं तो आज के दिन विशाखा नक्षत्र के दौरान आंखें बंद करके विकंकत के पेड़ का ध्यान करते हुए, उसे प्रणाम करें और विकंकत के पेड़ का पांच बार नाम लें। इसके बाद ध्यान में ही उसकी जड़ में पानी डालें और अपने जीवन में समृद्धि पाने के लिए प्रार्थना करें।

8. अगर आपको अपने घर-मकान बनवाने या उसमें सुधार करवाने से संबंधित कुछ दिक्कतें आ रही हैं तो आज के दिन भगवान विश्वकर्मा की  पूजा करें। भगवान विश्वकर्मा की तस्वीर बाजार में आपको आसानी से मिल जायेगी। अगर बाजार में न मिल पाये, तो इंटरनेट से भगवान की फोटो डाउनलोड करके, उसे अपने मंदिर की दीवार पर लगा लें। अब विधि-पूर्वक पुष्प और धूप-दीप आदि से भगवान विश्वकर्मा की पूजा करें।

9. अगर आप अपने घर की सुख-समृद्धि को बढ़ाना चाहते हैं तो उसके लिए आज के दिन एक पीतल का बर्तन लेकर उसे अपने घर के मंदिर में स्थापित करें। उसके बाद विधि-पूर्वक उस बर्तन की पूजा करें और पूजा के बाद उस बर्तन को अपने रसोईघर में रख लें और इस्तेमाल कर लें।

10. अगर आप अपने परिवार को हमेशा खुशहाल रहते देखना चाहते हैं, सबके बीच सामंजस्य बना देखना चाहते हैं तो आज आप 250 ग्राम खजूर लीजिये। अब उसमें से दो खजूर निकालकर आप खुद खा लीजिये और बाकी सारे खजूर को किसी लौहार या बढई को खाने के लिए दे दें।

11. अगर आप चाहते है कि जीवन में सब मंगलमय हो और खुशियां आपके द्वार पर खड़ी रहे, इसके लिए आज के दिन हाथी के दो खिलौने लाकर, उन्हें साफ पानी से धोकर घर में पूजा के मंदिर में रखें और उनके आगे तेल का एक दीपक जलाएं।

12. अगर आप अपने साथ परिवार का स्वास्थ्य भी अच्छा बनाये रखना चाहते है तो आज आप गणेश भगवान को पूजा के बाद जावित्री का भोग लगाएं और भोग लगाने के बाद श्री गणेश का आशीर्वाद लेकर उस जावित्री को अपने पास पीसकर रख लें और अगले 45 दिनों के दौरान प्रसाद के रूप में उस जावित्री को थोड़ा-थोड़ा करके खाते रहिये।

Leave a Comment