VIDEO: दोस्त की पत्नी पर थी गंदी नजर, बीच में आया पति तो करा दी हत्या; डेढ़ साल बाद हुआ मर्डर का खुलासा

हत्या का आरोपी हुआ गिरफ्तार - India TV Hindi

प्रियंका कुमारी(संवाददाता)

बिहार के गोपालगंज में एक दोस्त की दोस्त ने हत्या करवा दी। दरअसल, दोस्त की पत्नी पर फरेबी दोस्त की गंदी नजर थी, जिसका विरोध करने पर उसकी हत्या करा दी। पुलिस ने इस मामले का खुलासा हत्या के करीब डेढ़ साल बाद किया है। जानकारी के मुताबिक, दिलीप कुमार गोड़ पहले विजयपुर थाना क्षेत्र के बंगरा बाजार में रहता था। उसने पश्चिम बंगाल की डांसर पूजा मानना से शादी कर ली थी। शादी के बाद वो भी अपनी पत्नी के साथ आर्केस्ट्रा में काम करने लगा था। इसी दौरान किसी कार्यक्रम के लिए दोनों पति-पत्नी पूर्वी चंपारण गए थे, जहां ऑर्केस्ट्रा संचालक विकास राम से दोनों की मुलाकात हुई। मुलाकात के बाद विकास राम ने दिलीप कुमार गोड़ को कहा कि तुम मेरे आर्केस्ट्रा में आ जाओ मैं तुम्हें उससे ज्यादा रुपये दूंगा।

हत्या के लिए शूटर दोस्त की ली मदद

इसी लालच में दिलीप कुमार गोड़ और उसकी पत्नी पूजा मानना पूर्वी चंपारण चले गए और विकास राम के ऑर्केस्ट्रा में कार्य करने लगे। अभी कार्य करने के कुछ दिन ही हुए थे कि विकास राम की नीयत बिगड़ने लगी और दिलीप कुमार की पत्नी पूजा मानना को गंदी नजर से देखने लगा और कुछ-कुछ कहने लगा, जिसका विरोध पूजा के पति दिलीप कुमार ने किया। इस बात से नाराज पूर्वी चंपारण के रहने वाला विकास राम ने अपने एक और दोस्त शूटर रूपेश तिवारी को बुलाया और गोपालगंज आने के बहाने दिलीप कुमार को यादोपुर थाना क्षेत्र के गंडक नदी के किनारे रजवाही दियारा क्षेत्र में गला काटकर हत्या कर दी। हत्या के बाद उसकी लाश को झाड़ियों में छिपा दिया। दूसरे दिन जब यादोपुर थाने की पुलिस को सूचना मिली तो घटनास्थल पहुंचकर शव को पहचान करने के बाद पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इसके बाद अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया। डेढ साल तक पुलिस को हत्या का कोई सुराग नहीं मिला।

आरोपी तक कैसे पहुंची पुलिस?

आज डेढ़ साल बाद पुलिस ने टेक्निकल अनुसंधान करते हुए नेटवर्क को डंप किया, जिसके बाद शक के आधार पर पूर्वी चंपारण के विकास राम को पूछताछ के लिए लाया गया। इसके  बाद विकास राम ने हत्या करने की बात कबूल ली। विकास राम ने बताया कि दिलीप की पत्नी से मुझे प्यार हो गया था। ऐसे में मेरे और पूजा मानना के बीच में दिलीप रोड़ा बन रहा था, इसलिए मैंने दिलीप कुमार की अपने दोस्त के साथ मिलकर हत्या कर दी और नदी किनारे शव को फेंक दिया, ताकि किसी को शक न हो, जबकि संचालक विकास राम के दोस्त रुपेश तिवारी पेशे से शूटर था। लगभग एक साल पूर्व उसकी भी किसी द्वारा हत्या कर दी गई। इस पूरे मामले में एक अभियुक्त विकास राम को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार करने के बाद उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

गोपालगंज एसपी ने क्या कहा?

गोपालगंज एसपी स्वर्ण प्रभात ने कहा कि इस कांड का सफल खुलासा हो गया है। काफी समय लगा, लेकिन दोषी पकड़ा गया। इस कांड को उदभेदन करने पर गोपालगंज के एसपी स्वर्ण प्रभात ने बताया कि यादोपुर थाना अध्यक्ष सुनील कुमार को और उनकी टीम को 5000 रुपये की नगद राशि से पुरस्कृत किया जाएगा।

Leave a Comment