केजरीवाल ही क्यों हो विपक्षी दलों का PM उम्मीदवार? I.N.D.I.A की बैठक से पहले AAP ने गिनाए कारण

केजरीवाल ही क्यों हो विपक्षी दलों का PM उम्मीदवार? I.N.D.I.A की बैठक से पहले AAP ने गिनाए कारण

प्रियंका कुमारी(संवाददाता)

लोकसभा चुनाव 2024 (Lok Sabha Election 2024) को लेकर सभी राजनीतिक दलों ने तैयारी जोरों से शुरू कर दी है। लोकसभा चुनाव में एनडीए के खिलाफ लड़ने के लिए 26 पार्टियों वाले विपक्षी दलों ने अपने नए गठबंधन का नाम ‘इंडिया’ यानी इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इनक्लूसिव अलायंस रखा है।

हालांकि अभी तक विपक्षी दलों की ओर से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के लिए किसी नेता के नाम का एलान नहीं किया गया है। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर विपक्षी दलों की ओर से प्रधानमंत्री पद के लिए किसे मैदान में उतारा जाएगा?

ताजा मामले में समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में आम आदमी पार्टी (आप) की मुख्य राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रियंका कक्कड़ (Priyanka Kakkar) ने अपनी राय देकर प्रधानमंत्री पद के लिए विपक्षी दलों का उम्मीदवार कौन हो, इस चर्चा को गर्म कर दिया है। उन्होंने विपक्षी दलों से दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने की अपील की है।

अगर आप मुझसे पूछें तो मैं चाहूंगी कि अरविंद केजरीवाल प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार बनें। इतनी कमरतोड़ महंगाई में भी राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में महंगाई सबसे कम है। फ्री पानी, फ्री शिक्षा, फ्री बिजली, महिलाओं के लिए फ्री बस यात्रा, बुजुर्गों के लिए मुफ्त तीर्थ यात्रा, फिर भी उन्होने मुनाफे का बजट पेश किया है। वह लोगों के मुद्दे उठाते हैं और एक चुनौतीकर्ता के रूप में उभरते हैं।

AAP ने गिनाए ये कारण-

  • दिल्ली में सबसे कम महंगाई है।
  • दिल्ली में फ्री पानी, फ्री शिक्षा, फ्री बिजली, महिलाओं के लिए फ्री बस यात्रा, बुजुर्गों के लिए मुफ्त तीर्थ यात्रा है। इसके बादजूद दिल्ली में मुनाफे का बजट पेश किया है।
  • अरविंद केजरीवाल जनता के मुद्दे उठाते हैं।
  • अरविंद केजरीवाल पीएम मोदी के आगे एक चैलेंजर्स के तौर पर उभरे हैं।
  • केजरीवाल के पास इकोनॉमिक विजन है।

उल्लेखनीय है कि भाजपा विरोधी विपक्षी दलों की बैठक मुंबई में 31 अगस्त और एक सितंबर को होने वाली है। माना जा रहा है कि इस बैठक में लोकसभा चुनाव को लेकर विपक्षी दलों की रणनीति तय की जाएगी। साथ ही इस बैठक में विपक्षी दलों के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के नाम पर भी चर्चा हो सकती है।

गठबंधन एकजुट रहा तो केंद्र में नहीं बनेगी BJP की सरकार- AAP

मुंबई में होने वाली तीसरी इंडिया अलायंस की बैठक पर दिल्ली सरकार में मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा कि इस गठबंधन का एकजुट रहना बहुत मुश्किल है।

राजनीतिक पर्यवेक्षक कह रहे हैं कि यह बहुत मुश्किल है कि यह गठबंधन एकजुट रहे, लेकिन अगर ऐसा हुआ तो यह तय है कि भाजपा केंद्र में सरकार नहीं बना पाएगी।

पड़ोसी देश अपनी सीमा से बाहर आकर कर रहे नई भूमि पर दावा- AAP

चीन द्वारा अपने नए नक्शे में भारतीय भूमि पर दावा करने पर दिल्ली सरकार में मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा कि भारत के लिए यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि पड़ोसी देश अपनी सीमाओं से बाहर आकर नई भूमि पर दावा कर रहे हैं और भारत सरकार अपनी प्रतिष्ठा बनाए रखने के लिए इसे स्वीकार नहीं कर रही। चीन को इसका फायदा मिल रहा है।

Leave a Comment

[democracy id="1"]