तक उड़ान भरने के लिए तैयार होगा ‘भारत का तेजस MK-2’, राफेल से भी बेहतर होगा ये विमान

Advertisement

हवाई ताबूत' का अब भी देश में उड़ान भरना, कांग्रेस की देन! | 'Aerial coffin'  still flying in the country is a gift of Congress ! - News Nation

प्रियंका सिंह (सवांददाता)

Tejas Mk-2 मेक इन इंडिया (Make in India) की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम आगे बढ़ते हुए भारत को जल्द ही स्वदेशी तेजस मार्क टू (Tejas Mk 2) विमान मिलने वाला है। अमेरिका और भारत के इस समझौते के तहत अमेरिकी कपंनी जनरल इलेक्ट्रिक अपने f414 इंजन को भारत में ही तैयार करेगी। बता दें अमेरिका इसके लिए भारत की सरकारी कंपनी HAL (Hindustan Aeronautics Limited) के साथ समझौता करेगा।

Advertisement

की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम आगे बढ़ते हुए भारत को जल्द ही स्वदेशी तेजस मार्क टू (Tejas Mk 2) विमान मिलने वाला है। पिछले दिनों अमेरिका के दौरे पर गए प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी ने फाइटर जेट के इंजन को लेकर समझौता किया।

इस समझौते के तहत अमेरिकी कपंनी जनरल इलेक्ट्रिक अपने f414 इंजन को भारत में ही तैयार करेगी। बता दें, अमेरिका इसके लिए भारत की सरकारी कंपनी HAL (Hindustan Aeronautics Limited) के साथ समझौता करेगा। दोनों देशों के बीच हुए इस समझौते से तेजस मार्क-2 विमान के भारत में मैन्युफैक्चरिंग का रास्ता खुलेगा।

2025 में ‘भारत का तेजस’ उड़ान भरेगा

जनरल इलेक्ट्रिक का f414 इंजन मिलने के बाद पहला तेजस एमके 2 विमान साल 2025 में उड़ान भरेगा। इसकी जानकारी HAL की एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी (एडीए) में एवियोनिक्स और हथियार प्रणालियों के निदेशक प्रभुल्ला चंद्रन (Prabhulla Chandran) ने चंडीगढ़ में एक कार्यक्रम के दौरान दी।

17.5 टन होगा इसका वजन

स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस एमके 2 का निर्माण एचएएल (HAL) द्वारा किया जाएगा और इसका प्रोडक्शन 2025-2026 तक पूरा हो जाएगा। आपको बता दें कि तेजस मार्क 2 का वजन मिराज, जगुआर और ग्रिपेन के समान होगा, यानी इसका वजन 17.5 टन होगा।

इस विमान में भारी स्टैंड-ऑफ हथियार की क्षमता होगी। उन्नत एईएसए रडार के साथ-साथ इस विमान में हवा से हवा (Air to Air) में मार करने वाली ‘अस्त्र’ मिसाइल होगी। यह स्वदेशी तकनीकी (Indigenous Technology) से तैयार पूरी तरह से भारतीय मिसाइल है।

Leave a Comment

Advertisement
What does "money" mean to you?
  • Add your answer