क्‍या होता है किसी साइक्‍लोन का लैंडफॉल, जिसके साथ तेज हवाएं और भारी बारिश लाती है तबाही

क्‍या होता है किसी साइक्‍लोन का लैंडफॉल जिसके साथ तेज हवाएं और भारी बारिश  लाती है तबाही - What happens when a cyclone makes landfall with which  strong winds and heavy rains

विनीत माहेश्वरी (संवाददाता)

लैंडफॉल के दौरान चक्रवात की आईवॉल जो कि सबसे तीव्र हवाओं और वर्षा का क्षेत्र है तट पर आ जाती है। इसके परिणामस्वरूप विनाशकारी हवाएं तूफानी लहरें और व्यापक बाढ़ आ सकती है।

Cyclone landfall : देश भर में सबसे बड़ी चर्चा Biperjoy cyclone को लेकर हो रही है। चक्रवाती तूफान बिपरजॉय तेज रफ्तार के साथ गुजरात की तरफ बढ़ रहा है। तूफान के कारण मौसम में भारी बदलाव देखा जा रहा है, जबकि तटीय इलाकों में चक्रवात बिपरजॉय का ज्यादा असर देखने को मिल रहा है।

बिपरजॉय चक्रवात के साथ इस समय साइक्लोन लैंडफॉल (Cyclone landfall) का भी नाम बड़ी तेजी से सुनाई दे रहा है। क्या आप जानते हैं आखिर ये साइक्लोन लैंडफॉल क्या है? साइक्लोन लैंडफॉल उस वक्त को संदर्भित करता है, जब एक उष्णकटिबंधीय चक्रवात (tropical cyclone), भूमि के साथ संपर्क बनाता है। आपको बता दें कि ट्रॉपिकल साइक्लोन क्षेत्र के आधार पर हरिकेन या टाइफून के रूप में भी जाना जाता है।

ट्रॉपिकल साइक्लोन एक शक्तिशाली और विनाशकारी तूफान है, जो कम दबाव केंद्र, तेज हवाओं और भारी वर्षा के साथ आता है। जब एक उष्णकटिबंधीय चक्रवात खुले समुद्र के ऊपर बनता है, तो यह आमतौर पर वायुमंडलीय स्थितियों जैसे कि हवा के पैटर्न, तापमान में उतार-चढ़ाव और पृथ्वी के घूमने से निर्धारित एक विशेष रस्ते के साथ चलता है।

जैसे ही चक्रवात एक इलाके के पास पहुंचता है, तो यह उस बिंदु पर पहुंच जाता है जहां से यह बहते पानी से पार होकर जमीन पर आ जाता है। चौराहे के इस बिंदु को ही लैंडफॉल के रूप में जाना जाता है।

लैंडफॉल के दौरान, चक्रवात की आईवॉल, जो कि सबसे तीव्र हवाओं और वर्षा का क्षेत्र है, तट पर आ जाती है। इसके परिणामस्वरूप विनाशकारी हवाएं, तूफानी लहरें और व्यापक बाढ़ आ सकती है। प्रभावों की गंभीरता चक्रवात की तीव्रता, भूमि की भौगोलिक विशेषताओं और प्रभावित क्षेत्रों की तैयारी और लचीलेपन पर निर्भर करती है।

क्या है चक्रवात के आने का प्रभाव ?

चक्रवात के आने का प्रभाव विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है, जिसमें तूफान की तीव्रता, चक्रवात का आकार, तटीय स्थलाकृति (topography) और प्रभावित क्षेत्र की तैयारी शामिल है। चक्रवात की विशेष विशेषताओं के आधार पर हवाओं की ताकत और वर्षा की मात्रा अलग-अलग हो सकती है। बड़े और तीव्र चक्रवात भूमि पर गिरने पर अधिक महत्वपूर्ण नुकसान पहुंचाते हैं, जबकि छोटे या कमजोर तूफानों का प्रभाव कम हो सकता है।

मौसम संबंधी एजेंसियां बराबर रखती हैं नजर

मौसम संबंधी एजेंसियां चक्रवातों की बारीकी से निगरानी करती हैं और तैयारी और निकासी उपायों के लिए पर्याप्त समय सुनिश्चित करने के लिए भूस्खलन से पहले जनता को चेतावनी और सलाह जारी करती हैं। ये चेतावनियां आने वाले चक्रवात से जुड़े अपेक्षित रस्ते, तीव्रता और संभावित खतरों के बारे में जानकारी प्रदान करती हैं।

चक्रवात के लैंडफॉल होने की संभावना का पता होना क्यों जरुरी?

यह समझना कि कब और कहां चक्रवात के लैंडफॉल होने की संभावना है। यह आपातकालीन प्रबंधन के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह अधिकारियों और समुदायों को निकासी, आपदा प्रतिक्रिया और संसाधन आवंटन के बारे में सूचित निर्णय लेने में मदद करता है, ताकि मानव जीवन और बुनियादी ढांचे पर संभावित प्रभाव को कम किया जा सके।

Leave a Comment