Monsoon in India: कैसे होती है मानसून की एंट्री? बारिश मानसून की है, प्री या पोस्ट की? पढ़ें हर सवाल का जवाब

कैसे पता चलता है कि बारिश मॉनसून की है, प्री मॉनसून की या पोस्ट मॉनसून की?  मौसम विभाग कब करता है ऐलान - what is pre monsoon post monsoon imd criteria  for

विनीत माहेश्वरी (संवाददाता)

Monsoon in India News भारत में केरल के रास्ते मानसून दस्तक दे चुका है। मानसून के पहुंचने के साथ ही देशभर में बारिश के आसार बनने लगे हैं। वहीं केरल सहित दक्षिणी राज्यों में बारिश शुरू हो चुकी है।

Monsoon in India News भारत में केरल के रास्ते मानसून दस्तक दे चुका है। मानसून के पहुंचने के साथ ही देशभर में बारिश के आसार बनने लगे हैं। वहीं केरल सहित दक्षिणी राज्यों में बारिश शुरू हो चुकी है।Monsoon in India News भारत में केरल के रास्ते मानसून दस्तक दे चुका है। मानसून के पहुंचने के साथ ही देशभर में बारिश के आसार बनने लगे हैं। वहीं केरल सहित दक्षिणी राज्यों में बारिश शुरू हो चुकी है।Monsoon in India News भारत में केरल के रास्ते मानसून दस्तक दे चुका है। मानसून के पहुंचने के साथ ही देशभर में बारिश के आसार बनने लगे हैं। वहीं केरल सहित दक्षिणी राज्यों में बारिश शुरू हो चुकी है।

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। Monsoon in India: भारत में केरल के रास्ते मानसून दस्तक दे चुका है। मानसून के पहुंचने के साथ ही देशभर में बारिश के आसार बनने लगे हैं। वहीं, केरल सहित दक्षिणी राज्यों में बारिश शुरू हो चुकी है। इस साल मानसून सामान्य समय से करीब एक सप्ताह की देरी से भारत पहुंचा है।

भारत में मानूसन सबसे पहले केरल पहुंचता है। आमतौर पर इसके केरल पहुंचने की तिथि एक जून तक की होती है। हालांकि, इसमें एक-दो सप्ताह की देरी भी देखी गई है। भारत में हिन्द महासागर और अरब सागर की ओर से दक्षिण-पश्चिम तट पर मानसून सबसे पहले पहुंचता है। इसके बाद मानसूनी हवाएं देश के दक्षिण और उतर दिशा की ओर बढ़ती है।

भारत में दो प्रकार के मानसून होते हैं। पहला गर्मी का मानसून और दूसरा सर्दी का मानसून। भारत में दोनों मानसून का असर अलग-अलग समय में रहता है। भारत में गर्मी का मानसून अप्रैल से सितंबर तक रहता है और सर्दी का मानसून अक्टूबर से मार्च तक रहता है। वहीं, भारत में मानसून के दो शाखा हैं। पहला अरब सागर का मानसून और दूसरा बंगाल की खाड़ी का मानसून। ये दोनों भारत में बारिश कराता है।

भारत में दो प्रकार के मानसून होते हैं। पहला गर्मी का मानसून और दूसरा सर्दी का मानसून। भारत में दोनों मानसून का असर अलग-अलग समय में रहता है। भारत में गर्मी का मानसून अप्रैल से सितंबर तक रहता है और सर्दी का मानसून अक्टूबर से मार्च तक रहता है। वहीं, भारत में मानसून के दो शाखा हैं। पहला अरब सागर का मानसून और दूसरा बंगाल की खाड़ी का मानसून। ये दोनों भारत में बारिश कराता है।भारत में दो प्रकार के मानसून होते हैं। पहला गर्मी का मानसून और दूसरा सर्दी का मानसून। भारत में दोनों मानसून का असर अलग-अलग समय में रहता है। भारत में गर्मी का मानसून अप्रैल से सितंबर तक रहता है और सर्दी का मानसून अक्टूबर से मार्च तक रहता है। वहीं, भारत में मानसून के दो शाखा हैं।vभारत में गर्मी का मानसून एक जून से 15 सितंबर तक सक्रिय रहता है। इसके बाद सर्दी का मानसून सक्रिय हो जाता है। अगर पूरे दक्षिण एशिया की बात की जाए, तो मानसून एक जून से एक सितंबर तक सक्रिय रहता है।vभारत में गर्मी का मानसून एक जून से 15 सितंबर तक सक्रिय रहता है। इसके बाद सर्दी का मानसून सक्रिय हो जाता है। अगर पूरे दक्षिण एशिया की बात की जाए, तो मानसून एक जून से एक सितंबर तक सक्रिय रहता है। पहला अरब सागर का मानसून और दूसरा बंगाल की खाड़ी का मानसून। ये दोनों भारत में बारिश कराता है।

Leave a Comment