‘कई आतंकी संगठन टारगेट किलिंग का ले रहे सहारा’, आर्मी डे पर बोले सेना प्रमुख मनोज पांडे, कहा- LAC पर हैं तैयार

Army chief Gen Manoj Pande said Many terrorist organizations are doing target  killing ready on LAC 'कई आतंकी संगठन टारगेट किलिंग का ले रहे सहारा', आर्मी  डे पर बोले सेना प्रमुख, कहा-

विनीत माहेश्वरी (संवाददाता )

75वीं आर्मी डे परेड के मौके पर देश के सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने कहा कि पहली बार सेना दिवस परेड और इससे जुड़े अन्य कार्यक्रम राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के बाहर बेंगलुरु में आयोजित किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसने सेना को लोगों से जुड़ने का एक सुनहरा अवसर दिया है। मुझे भरोसा है कि इससे हमारे संबंध और भी मजबूत होंगे। सेना प्रमुख ने कहा कि पिछले साल सेना ने सुरक्षा संबंधी चुनौतियों का दृढ़ता से सामना किया और सीमाओं की सक्रिय व मजबूती से सुरक्षा सुनिश्चित की। सेना ने क्षमता विकास, बल पुनर्गठन और ट्रेनिंग में सुधार के लिए कदम उठाए। इसने भविष्य के युद्धों के लिए अपनी तैयारियों को और मजबूत किया। उन्होंने कहा, “उत्तरी सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थिति सामान्य रही है और स्थापित प्रोटोकॉल और मौजूदा तंत्र के माध्यम से शांति बनाए रखने के लिए जरूरी कदम उठाए गए हैं। LAC पर एक मजबूत रक्षा स्थिति बनाए रखते हुए हम किसी भी आपात्काल स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं।” उन्होंने कहा कि कठिन क्षेत्र और खराब मौसम के बावजूद हमारे बहादुर जवान वहां तैनात हैं। उन्हें सभी तरह के हथियार, उपकरण और सुविधाएं पर्याप्त मात्रा में दी जा रही हैं। स्थानीय प्रशासन, अन्य एजेंसियों और सेना के संयुक्त प्रयासों से बुनियादी ढांचे के विकास में सुधार हुआ है।”पाकिस्तान से सटे सीमा को लेकर सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने कहा, “पश्चिमी सीमावर्ती क्षेत्रों में नियंत्रण रेखा पर सीजफायर जारी है और इसके उल्लंघनों में कमी आई है, लेकिन सीमा पार अभी भी आतंकी ढांचा बना हुआ है। हमारा काउंटर इंफिल्ट्रेशन ग्रिड वहां से घुसपैठ को लगातार नाकाम कर रहा है। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के अंदर के इलाकों में सुधार देखा गया है। स्थानीय आबादी ने हिंसा को खारिज कर दिया है और सकारात्मक बदलाव का स्वागत किया है, सभी सरकारी पहलों में उत्साहपूर्वक भाग लिया है।” सेना प्रमुख ने कहा, “हालांकि सुरक्षा बलों के प्रयासों से हिंसा में कमी आई है। कई आतंकी संगठनों ने अपनी प्रेजेंस दिखाने के लिए टारगेट किलिंग का सहारा लिया है। हम अन्य सुरक्षाबलों के साथ मिलकर इस चुनौती से निपट रहे हैं।

पूर्वोत्तर क्षेत्रों में सुरक्षा की स्थिति में निश्चित सुधार हुआ है। भारतीय सेना ने हिंसा के स्तर को कम करने और विद्रोहियों को हिंसा का रास्ता छोड़ने में अहम भूमिका निभाई है। ज्यादातर विद्रोही समूहों ने सरकार के साथ शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

गौरतलब है कि आर्मी डे परेड का आयोजन बेंगलुरु के एमईजी एंड सेंटर में किया जा रहा है, जहां चीफ गेस्ट के तौर पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पहुंचे हैं। आज का परेड सेना के साउदर्न कमांड की देख-रेख में आयोजित किया गया है। इनके अलावा देश के अन्य हिस्सों में स्थित आर्मी कैम्प्स में भी इस तरह के आयोजन किए गए हैं।

Leave a Comment