कड़ाके की ठंड से ठिठुरी दिल्ली, राजधानी में 1.8 डिग्री का टॉर्चर; अभी शीत लहर रहेगी बरकरार

Delhi Cold Wave: कड़ाके की ठंड से ठिठुरी दिल्ली, राजधानी में 1.8 डिग्री का  टॉर्चर; अभी शीत लहर रहेगी बरकरार - Delhi weather forecast minimum  temperature blow than Shimla Dalhousie imd ...

विनीत माहेश्वरी (संवाददाता)

राजधानी दिल्ली समेट पूरा उत्तर भारत जबरदस्त ठंड की चपेट में है। पहाड़ों पर बर्फीली हवाओं के कारण शुक्रवार की सुबह भी कंपकपाती सर्दी के साथ शुरू हुई है। वरिष्ठ मौसम विज्ञानी आर के जैनामनी के अनुसार, शुक्रवार को दिल्ली का औसत न्यूनतम तापमान तो एक दिन पहले के मुकाबले 3 से बढ़कर 4 डिग्री सेल्सियस (सामान्य से 3 डिग्री कम) हो गया, लेकिन कई स्थानों पर तापमान नीच आ गया है।आयानगर में सबसे कम तापमान 1.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, रिज में 3.3 एवं लोधी रोड पर 3.8 डिग्री सेल्सियस रहा। कोहरे में भी बृहस्पतिवार की तुलना में कुछ सुधार दिखा है। वहीं, गुरुवार को आयानगर में 2.2, लोधी रोड और रिज में तापमान रहा 2.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।आज दृश्यता (विजिविलिटी) का स्तर 200 मीटर तक दर्ज किया गया। शनिवार और रविवार के बाद चार पांच दिन के लिए थोड़ी और राहत मिलने के आसार हैं। दूसरी तरफ दिल्ली एनसीआर की वायु गुणवत्ता अभी भी ‘बहुत खराब’ श्रेणी में ही है। आईएमडी (IMD) ने दिल्ली के लिए रेड अलर्ट जारी किया है। दिल्ली में शनिवार तक न्यूनतम तापमान लगातार 4 डिग्री सेल्सियस से नीचे रहने की संभावना है।आईएमडी के वर्तमान पूर्वानुमानों के अनुसार, आज यानी शुक्रवार को राज्यों के कुछ हिस्सों में शीत लहर से गंभीर शीत लहर की स्थिति बनी रहेगी। आईएमडी ने कहा कि उत्तरी भारत में शीत लहर (Cold Wave) चलेगी। शीत लहर की घोषणा तब की जाती है, जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस नीचे गिर जाता है, जबकि अधिकतम तापमान सामान्य से कम से कम 4.5 डिग्री सेल्सियस नीचे चला जाता है।दूसरी ओर भीषण शीत लहर की घोषणा तब की जाती है, जब न्यूनतम तापमान 2 डिग्री सेल्सियस तक गिर जाता है या फिर सामान्य तापमान 6.4 डिग्री सेल्सियस से अधिक हो जाता है।आईएमडी ने कुछ क्षेत्रों में शीत लहर का रेड अलर्ट और कुछ में ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। पंजाब के गुरदासपुर, फिरोजपुर, लुधियाना, बरनाला, पटियाला, मनसा, कपूरथला, फरीदकोट और मुक्तारा और सिरसा, फतेहगढ़ साहिब, जींद, कुरुक्षेत्र, हिसार, अंबाला, रेवाड़ी भी जिला-स्तरीय अलर्ट जारी किए गए हैं।पहाड़ों की बर्फीली हवाओं के असर से बृहस्पतिवार को यहां का न्यूनतम तापमान तीन डिग्री सेल्सियस तक आ गया था, जबकि तीन स्थानों पर यह 2.2 से 2.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह इस सीजन का ही नहीं, बल्कि जनवरी माह में गत दो साल का सबसे कम न्यूनतम तापमान था। आलम यह रहा कि बृहस्पतिवार को देश की राजधानी डलहौजी, शिमला एवं कांगड़ा से भी ठंडी रही।घने कोहरे ने भी खासा परेशान किया, जिससे दृश्यता का स्तर 25 से 50 मीटर तक सिमट गया, जिससे आइजीआइ एयरपोर्ट पर 60 उड़ानें और करीब दो दर्जन ट्रेनें प्रभावित हुईं। मौसम विभाग ने अगले दो दिन तक ऐसा ही मौसम बने रहने का पूर्वानुमान जारी किया है।

मौसम विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि शीत लहर और ठंडे दिन की स्थिति अगले 24 से 48 घंटों तक जारी रहने की संभावना है। इसके बाद एक नए पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव में कुछ सुधार होगा। इस वजह से यलो अलर्ट भी जारी है।स्काईमेट वेदर के उपाध्यक्ष (मौसम विज्ञान एवं जलवायु परिवर्तन) महेश पलावत ने बताया कि पहाड़ों पर नए साल तक जो बर्फबारी हुई है, उत्तर पश्चिमी हवाओं के जरिये उसी की ठंडक दिल्ली को सर्द बना रही है। अभी दो दिन और ऐसी ही शीत लहर व कोल्ड डे वाली स्थिति बनी रहेगी। इसके बाद फिर चार-पांच दिन राहत रहेगी और तापमान में थोड़ा इजाफा होगा।

Leave a Comment