सस्ते एयर टिकट का झांसा देकर ठगने वाला इंजीनियर दबोचा

नई दिल्ली – अतुल अग्रवाल

नई दिल्ली, 15 अक्टूबर  रोहिणी साइबर पुलिस ने सस्ते एयर टिकट देने का झांसा देकर ठगी करने के मामले में एक इंजीनियर को शुक्रवार को गिरफ्तार किया है। आरोपी की पहचान 42
वर्षीय रविंद्र के तौर पर हुई है। अब तक पुलिस को 30 पीड़ित मिले, जिनसे आरोपी ने करीब एक करोड़ की ठगी की है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि ट्रेवल एजेंट सुनील ग्रोवर के पास इस साल मार्च में पोर्ट ऑफ स्पेन जाने के लिए सात एयर टिकट बुक कराने का ऑर्डर आया था। उसे इंटरनेट पर रविंद्र कुमार की ट्रेवल एजेंसी मिली, जिसने 25 से 30 फीसदी कम कीमत पर टिकट दिलाने का दावा किया।

पीड़ित ने रविंद्र से बात की और सात टिकट के 9.50 लाख रुपये जमा करा दिए। इसके बाद आरोपी ने दो टिकट भेज दिए। लेकिन बाद में फोन उठाना बंद कर दिया। ठगी का अहसास होने पर पीड़ित
ने शिकायत दी जिसपर पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर लिया। साथ ही एसीपी ईश्वर सिंह की देखरेख में एसएचओ अजय दलाल की टीम गठित की गई। डीसीपी प्रणव तयाल ने बताया कि टेक्निकल सर्विलांस के आधार पर पुलिस ने वारदात में शामिल रविंद्र की पहचान कर ली। रविंद्र के छिपने का ठिकाना जम्मू के आसपास था। पुलिस टीम लगातार आरोपी पर नजर बनाए हुए थे। तभी सूचना मिली कि रविंद्र जनकपुरी इलाके में आने वाला है। इस जानकारी के आधार पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। रविंद्र की पत्नी जम्मू में सरकारी शिक्षक है जबकि पिता सैन्य सेवा से सेवानिवृत्त हैं। आरोपी का छोटा भाई जम्मू में पशु चिकित्सक है। पूछताछ में मालूम हुआ कि रविंद्र ने जम्मू स्थित एनआईटी (राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान) से बीटेक की पढ़ाई की थी। इसके बाद पुणे स्थित संस्थान से एमबीए करने के बाद टिकट बुक करने के कारोबार में शामिल हो गया। लेकिन घाटा होनेपर चार साल से ठगी करने लगा। आरोपी पर विकासपुरी थाने में भी इसी तरह की एफआईआर दर्ज है। आरोपी के फोन से मिली जानकारी के अनुसार 30 पीड़ित सामने आए हैं।

आरोपी रविंद्र ने बताया कि वह ठगी की रकम का इस्तेमाल उधार चुकाने के लिए करता था। वह पीड़ित से सीधे उन्हीं बैंक खातों में रुपये जमा करने के लिए कहता था। इस तरह के सात बैंक खातों
की पहचान हुई है। आरोपी ने बताया कि उसने ठगी की रकम को सीधे कार डीलर के बैंक खाते में भी जमा कराई है। पुलिस इन सभी को नोटिस देकर जांच में शामिल करेगी।

Leave a Comment