याकूब मेमनः हत्यारे को हीरो बनाने वाले कौन?

Advertisement

विनीत माहेश्वरी (संवाददाता ) 

यह सिर्फ अपने भारत में ही संभव है कि मुंबई बम धमाकों के साजिशकर्ता याकूब मेमन को नायक
बनाने की चेष्टा की जाती है। उसे सुप्रीम कोर्ट से मौत की सजा होती है, तो उसे बचाने के लिए देश
के बहुत सारे स्वयंभू उदारवादी-सेक्युलरवादी रातों-रात सामने आ जाते हैं। उसकी शव यात्रा में हजारों
लोग शामिल भी होते हैं। फिर उसे फांसी हो जाती है। तब उसकी कब्र को सजाया जाता है। उसका
इस तरह से रखरखाव होता है कि मानो वह कोई महापुरुष हो। मुंबई में याकूब मेमन की कब्र के
'सौंदर्यकरण' करने के ठोस सुबूत मिल रहे हैं और उसे एक इबादत गाह में बदलने की कोशिश की जा
रही थी। जब इस तरह के आरोपों की सच्चाई सामने आई तो मुंबई पुलिस ने आतंकवादी की कब्र के

Advertisement

चारों ओर लगाई गई 'एलईडी लाइट' को हटाया। याकूब मेमन को 2015 में नागपुर जेल में फांसी दी
गई थी। उसे दक्षिण मुंबई के बड़ा कब्रिस्तान में दफनाया गया था। यह पता लगाया जाना चाहिए कि
कैसे एक आतंकवादी की कब्र पर 'एलईडी लाइट' लगा दी गई और संगमरमर की 'टाइलें' लगाकर उसे
संवारा गया। मेमन की करतूत के कारण ही मुंबई में सैकड़ों लोग मारे गए थे और अरबों की संपत्ति
नष्ट हुई थी। कहने वाले कह रहे हैं कि महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की सरकार के दौर में याकूब मेमन
की कब्र का 'सौंदर्यकरण' करने की कोशिश हुई थी। पुलिस भी मान रही है कि शब-ए-बारात के मौके
पर बड़ा कब्रिस्तान में 'हैलोजन लाइट' लगाई गई थी। याकूब मेमन की कब्र के आसपास संगमरमर
की 'टाइल' करीब तीन साल पहले ही लगाई गई थी।
अब मुंबई धमाकों के गुनहगार याकूब मेमन की मुंबई में निकली शव यात्रा को भी जरा याद कर लेते
हैं। मुंबई में वर्ष 1993 में हुए सीरियल बम विस्फोट के मामले में दोषी याकूब मेमन को नागपुर
केंद्रीय कारागार में फांसी दी गई थी। इसके बाद उसकी मुंबई में शव यात्री निकली। उसमें भी हजारों
लोग शामिल हुए। सवाल यह है कि क्या कानून की नजरों में गुनहगार साबित हो चुके मेमन को
लेकर समाज के एक वर्ग द्वारा इस तरह का सम्मान और प्रेम का भाव दिखाना क्या किसी भी तरह
से जायज है? मामला गंभीर है और देश इस सवाल का उत्तर उन सभी से चाहता है,जो याकूब मेमन
को हीरो के रूप में पेश करने में जरा सी भी शर्मिंदगी महसूस नहीं करते।
अब जरूरी यह है कि किसी भी आतंकवादी का अंतिम संस्कार सार्वजनिक तौर पर होना तत्काल बंद
हो। याकूब मेमन से लेकर बुरहान वानी जैसे खून के प्यासों की शव यात्राओं में शामिल होकर
मुस्लिम समुदाय का एक गुमराह वर्ग सारे देश को बेहद खराब संदेश देते हैं। जाहिर है, इन
परिस्थितियों में फिर अगर कोई इस्लाम और आतंकवाद को एक साथ जोड़कर देखे तो इसमें गलत
क्या है? वक्त की मांग है कि देश अमन पसंद शिया और बरेलवी मुस्लिमों को आगे बढ़ाए। ये
स्वभावतः देशभक्त होते हैं और आतंकवाद की खिलाफत करते हैं। यह भी याद रखना जरूरी है कि
याकूब मेमन की फांसी टालने को लेकर अभिनेता सलमान खान तक ने भी ट्वीट किया था। तब देश
की बहुत सी हस्तियों ने राष्ट्रपति प्रणब कुमार मुखर्जी को पत्र लिखकर भी याकूब मेमन की फांसी
पर रोक लगाने की मांग की थी। इन्होंने अपने पत्र को ही याकूब दया याचिका के रूप में स्वीकार
करने का आग्रह करते हुए कहा था कि याकूब मेमन पिछले 20 वर्षों से सिजोफ्रेनिया से पीड़ित है
और इस आधार पर वह फांसी के लिए शारीरिक रूप से अनफिट है। पत्र लिखने वाले कथित
सेक्युलवादियों में माकपा महासचिव सीताराम येचुरी, प्रकाश करात, बृंदा करात, शत्रुघ्न सिन्हा,
मणिशंकर अय्यर, वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी, प्रशांत भूषण, वरिष्ठ पत्रकार एन. राम, आनंद
पटवर्धन, महेश भट्ट, नसीरुद्दीन शाह, मजीद मेमन, डी राजा, केटीएस तुलसी, एचके दुआ, टी
सिवा, दीपांकर भट्टाचार्य, एमके रैना, तुषार गांधी, जस्टिस पानाचंद जैन, जस्टिस पीबी सावंत,
जस्टिस एचएस बेदी, जस्टिस एच सुरेश, जस्टिस केपी सिवा सुब्रह्मण्यम, जस्टिस एसएन भार्गव,
जस्टिस के चंद्रू, जस्टिस नागमोहन दास, वकील इंदिरा जयसिंह, इरफान हबीब, अर्जुन देव, डीएन
झा, अरुणा रॉय और जॉन दयाल आदि थे। इनमें से अब भी अधिकतर सक्रिय हैं। इनसे पूछा जाना
चाहिए कि क्या याकूब मेमन की कब्र को सौंदर्यकरण करना सही है?

बहरहाल, प्रणव कुमार मुखर्जी ने कथित उदारवादियों की एक नहीं सुनी और याकूब मेमन की फांसी
की सजा को बरकरार रखा था। उन्होंने अपने राष्ट्रपति के कार्यकाल के दौरान हत्यारों, आतंकियों और
देशद्रोहियों को लेकर किसी तरह का नरम रुख नहीं अपनाया। उन्होंने फांसी की सजा पाए सर्वाधिक
गुनहगारों की सजा को उम्र कैद में तब्दील करने की याचिकाओं को खारिज किया। अपने कार्यकाल
के दौरान उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से फांसी की सजा पाए 37 अपराधियों की याचिकाओं को अस्वीकार
करके एक तरह से संदेश दिया कि वे समाज और राष्ट्रविरोधी तत्वों को लेकर कठोर बने रहेंगे।
उन्होंने ही मुंबई हमलों के गुनहगार अजमल कसाब को फांसी के तख्ते पर चढ़वाने का रास्ता साफ
किया। उन्होंने संसद हमले के मास्टमाइंड अफजल गुरु को माफ किया। वे जानते थे कि इन तीनों
की सजा को कम करने का बेहद खराब संदेश जाएगा। अपराधी तत्व एक तरह से मानने लगेंगे कि
इस देश में संसद पर हमला करने से लेकर मासूमों का कत्ल करने पर बचा जा सकता है।
याकूब मेमन और अफजल गुरु को फांसी के तख्ते से बचाने के लिए देश की मानवाधिकार बिरादरी
ने दिन-रात एक कर दी थी। इन सबकी फांसी से पहले और बाद में मौत की सजा को खत्म करने के
सवाल पर बहस हुई। इन सबकी परवाह किए बगैर प्रणव कुमार मुखर्जी ने मानवता के शत्रुओं को
फांसी पर लटकाने में अपने दायित्व का निर्वाह किया। खैर, अब राज्य सरकार को उन शातिर तत्वों
को कसना होगा जो एक आतंकी को महान बनाने की कोशिश कर रहे थे।
(लेखक, वरिष्ठ संपादक, स्तंभकार और पूर्व सांसद हैं।)

Leave a Comment

Advertisement
What does "money" mean to you?
  • Add your answer

WPL Auction 2023 : महिला आईपीएल ऑक्शन की आ गई डेट, मुंबई में होगी खिलाड़ियों की नीलामी JAGRAN NEWS Publish Date: Thu, 02 Feb 2023 06:10 PM (IST) Updated Date: Thu, 02 Feb 2023 06:10 PM (IST) Google News Facebook twitter wp K00 महिला प्रीमीयम लीग के लिए 13 फरवरी को होगा ऑक्शन। फोटो- क्रिकेटबज WPL 2023 Auction भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को तारीख और स्थान पर निर्णय लेने में कुछ समय लिया। बीसीसीआई ने निर्णय लेने से पहले कुछ प्रमुख मुद्दों पर विचार किया। उनमें से एक शादी के कारण सुविधाजनक स्थान नहीं मिल पा रहा था। नई दिल्ली, स्पोर्ट्स डेस्क। WPL 2023 Auction : मुंबई के जियो वर्ल्ड कन्वेंशन सेंटर में 13 फरवरी को महिला प्रीमियर लीग के लिए नीलामी की मेजबानी करेगा। बीसीसीआई के सूत्रों ने इसकी पुष्टि की है। फ्रेंचाइजियों के अनुरोध के बाद बीसीसीआई ने यह तारीख तय की है। बता दें कि पहली बार महिला आईपीएल का आयोजन किया जाएगा। क्रिकबज के अनुसार, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को तारीख और स्थान पर निर्णय लेने में कुछ समय लिया। बीसीसीआई ने निर्णय लेने से पहले कुछ प्रमुख मुद्दों पर विचार किया। उनमें से एक शादी के कारण सुविधाजनक स्थान नहीं मिल पा रहा था। वहीं, दूसरी तरफ महिला आईपीएल की बोली जीतने वाली कई फ्रेंचाइजियां पहले से ही कई सारे लीग में व्यस्त हैं। फ्रेंचाइजियों ने की थी डेट बढ़ाने की मांग फ्रेंचाइजियों ने बीसीसीआई से अनुरोध किया था कि ITL20 के फाइल के बाद नीलामी की तारीख रखी जाए। बीसीसीआई ने इस अनुरोध को स्वीकार कर लिया। वहीं, महिला टी20 विश्व कप को देखते हुए बीसीसआई ने महिला प्रीमियर लीग के लिए ऑक्शन 13 फरवरी को निर्धारित की है। ऑक्शन जियो वर्ल्ड कन्वेंशन सेंटर में आयोजित किया जाएगा। बांद्रा-कुर्ला कॉम्पलेक्स में होगा ऑक्शन बता दें कि बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स में स्थित जिओ वर्ल्ड कन्वेंशन सेंटर एक विशाल इमारत है, जो एक सांस्कृतिक केंद्र है, जिसमें एक साथ कई कार्यक्रम आयोजित किए जा सकते हैं। बीसीसीआई के एक अधिकारी ने पुष्टि की है कि बोर्ड प्रबंधक नीलामी को केंद्र में कराने का विकल्प तलाश रहे हैं। आईपीएल के एक सूत्र ने पुष्टि की है कि कन्वेंशन सेंटर में नीलामी होगी। Ranji Trophy 2023, Hanuma Vihari, Fractured Wrist Ranji Trophy : टूटे हाथ के साथ बल्लेबाजी करने पहुंचे Hanuma Vihari, फैंस ने किया सलाम; देखें वीडियो यह भी पढ़ें गौरतलब हो कि अहमदाबाद में भारत और न्यूजीलैंड के निर्णायक मुकाबले से पहले बीसीसीआई ने भारतीय अंडर 19 महिला टीम को पुरस्कार दिया था। अंडर 19 टीम ने 29 जनवरी को इंग्लैड को हराकर अंडर 19 टी20 विश्व कप का खिताब जीता है। यह भी पढ़ें- WIPL: अडानी ने 1289 करोड़ रुपये में अहमदाबाद फ्रेंचाइजी खरीदी, बीसीसीआई की 4669 करोड़ रुपये की हुई कमाई भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड को 168 रन से हराया। फोटो- एपी IND vs NZ 3rd T20I : भारत ने दर्ज की टी20I किक्रेट में दूसरी सबसे बड़ी जीत, न्यूजीलैंड को 168 रन से रौंदा यह भी पढ़ें यह भी पढ़ें- MS Dhoni बने पुलिस अधिकारी, फैंस बोल- रोहित शेट्टी के कॉप्स इनके आगे फीके Edited By: Umesh Kumar जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट Facebook Twitter YouTube Google News Union Budget 2023- ऑटो इंडस्ट्री की उम्मीदों पर कितना खरा उतरा यह बजट | LIVE | आपका बजट blink LIVE