हॉस्पिटल मैनेजमेंट: डॉक्टर बने बगैर मेडिकल फील्ड में यूं बनाएं करियर

Advertisement

विनीत माहेश्वरी (संवाददाता ) 

अगर आपने मेडिकल की पढ़ाई नहीं की है और फिर भी मेडिकल फील्ड में करियर बनाना चाहते हैं
तो आपके लिए हॉस्पिटल मैनेजमेंट एक शानदार कोर्स है। हेल्थ सेक्टर में यह काफी आकर्षक और

बेहतर कोर्स है। आइए आज जानते हैं कि इस फील्ड में क्या करना होता है, कैसे बना सकते हैं
करियर, शैक्षिक योग्यता क्या चाहिए आदि…
करना क्या होता है?
किसी हॉस्पिटल में मरीजों को चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराने के अलावा भी बहुत सा काम होता
है। इनमें से कुछ काम आर्थिक और प्रबंधन संबंधित गतिविधियों से जुड़ा होता है। हॉस्पिटल के
मेडिकल स्टाफ के जिम्मे तो मरीजों के उपचार और देखभाल से संबंधित जिम्मेदारी होती है।
हॉस्पिटल के प्रबंधन और अन्य कामों को देखने के अन्य स्टाफ की जरूरत होती है जिनको आप
हॉस्पिटल मैनेजर कह सकते हैं। इस फील्ड में मेडिकल और गैर मेडिकल दोनों बैकग्राउंड वाले
कैंडिडेट्स अपना करियर बना सकते हैं।
कोर्स की डीटेल
इस फील्ड में आप 12वीं के बाद यानी बैचलर लेवल पर कोर्स कर सकते हैं। बैचलर लेवल पर तीन
सालों का बैचलर ऑफ हॉस्पिटल मैनेजमेंट/ऐडमिनिस्ट्रेशन कर सकते हैं। इसके लिए 12वीं क्लास कम
से कम 50 फीसदी अंकों के साथ पास होना जरूरी है।
डॉक्टोरल डिग्री
हॉस्पिटल मैनेजमेंट में एमडी/एमफिल कर सकते हैं। डॉक्टोरल डिग्री के लिए मास्टर ऑफ हॉस्पिटल
ऐडमिनिस्ट्रेशन डिग्री चाहिए।
टॉप कॉलेज
ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, नई दिल्ली
आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज, पुणे
देवी अहिल्या विश्वविद्यालय
सिंबायॉसिस सेंटर ऑफ हेल्थ केयर
फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (एफएमएस), दिल्ली यूनिवर्सिटी
बिड़ला इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी ऐंड साइंस, पिलानी
कहां मिलती है नौकरी?
अगर आपके पास हॉस्पिटल मैनेजमेंट में डिप्लोमा या डिग्री है तो आप को नर्सिंग होम, क्लिनिक,
पब्लिक या प्राइवेट सेक्टर के हॉस्पिटल, हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य
संगठनों, मेडिकल इंस्टिट्यूट्स, पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट्स, फार्मासूटिकल्स और हॉस्पिटल सप्लाई फर्म
आदि में नौकरी मिल सकती है।
वेतन

हॉस्पिटल मैनेजर/ऐडमिनिस्ट्रेटर की सैलरी संगठन के ऊपर निर्भर करती है। हॉस्पिटल ऐडमिनिस्ट्रेटर
की औसत सैलरी 3 लाख रुपये से 4 लाख रुपये सालाना तक होती है। ज्यादा अनुभव होने पर 5
लाख रुपये से 6 लाख रुपये सालाना तक सैलरी मिल सकती है।
कॉमेंट लिखें
फाइनैंस और इन्फर्मेशन सिस्टम की अच्छी जानकारी, शानदार नेतृत्व कौशल, बेहतरीन कम्यूनिकेशन
स्किल, दोस्ताना मिजाज, लोगों और प्रेशर को झेलने की योग्यता, डेडलाइन पर काम को खत्म करने
की योग्यता और धैर्य।

Leave a Comment

Advertisement
What does "money" mean to you?
  • Add your answer