डॉलर के मुकाबले रुपये की कमजोरी का बना नया रिकॉर्ड, 80.12 के स्तर तक पहुंची भारतीय मुद्रा

Advertisement

विनीत माहेश्वरी (संवाददाता )

नई दिल्ली, 29 अगस्त  डॉलर के मुकाबले रुपये ने सोमवार को एक बार फिर सबसे निचले स्तर तक
पहुंचने का नया रिकॉर्ड बनाया। अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में और बढ़ोतरी किए जाने का संकेत देने
के कारण डॉलर इंडेक्स में मजबूती का रुख बना हुआ है। इसकी वजह से भारतीय मुद्रा रुपये समेत दुनिया भर की
ज्यादातर मुद्राओं में गिरावट का रुख बना हुआ है।
इंटर बैंक फॉरेन एक्सचेंज मार्केट में रुपये ने आज के कारोबार की शुरुआत डॉलर के मुकाबले 21 पैसे की कमजोरी
के साथ 80.08 रुपये के रिकॉर्ड लो लेवल से की। इसके पहले पिछले महीने डॉलर के मुकाबले रुपया 80.065 के
स्तर तक गिर गया था। आज रुपये की ओपनिंग ही नए रिकॉर्ड लो के साथ हुई। शुरुआती कारोबार में ही वैश्विक
दबाव और विदेशी निवेशकों की भारतीय शेयर बाजार में बिकवाली करने की आशंका के कारण रुपया डॉलर के
मुकाबले 80.12 के स्तर तक लुढ़क गया। इसके पहले पिछले कारोबारी सप्ताह के आखिरी दिन शुक्रवार को डॉलर
के मुकाबले रुपया 79.87 के स्तर पर बंद हुआ था।

गौरतलब है कि इस साल भारतीय मुद्रा रुपया की तुलना में अमेरिकी डॉलर 7 प्रतिशत मजबूत हुआ है। डॉलर
इंडेक्स में आ रही मजबूती की वजह से रुपया समेत दुनिया भर की ज्यादातर मुद्राओं में कमजोरी आई है। डॉलर
की मजबूती का असर दुनियाभर के इक्विटी मार्केट पर भी साफ साफ नजर आ रहा है। फिलहाल ज्यादातर शेयर
बाजारों में अमेरिकी निवेशक बिकवाली का दबाव बनाए हुए हैं।
उल्लेखनीय है कि अमेरिकी फेडरल रिजर्व के चीफ जेरोम पॉवेल ने पिछले सप्ताह ही स्पष्ट किया था कि जब तक
अमेरिका में महंगाई दर 2 प्रतिशत के टॉलरेंस लिमिट तक नहीं आ जाती, तब तक फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों
में बढ़ोतरी करने का सिलसिला जारी रहेगा। फिलहाल अमेरिका में महंगाई दर अपने रिकॉर्ड हाई लेवल 9 प्रतिशत
के करीब बनी हुई है। जानकारों के मुताबिक जेरोम पॉवेल के इस रुख की वजह से जहां एक ओर दुनिया भर के
शेयर बाजारों में कमजोरी का माहौल बना है, वहीं दूसरी ओर इसके कारण डॉलर इंडेक्स में मजबूती आई है। इसका
असर भारतीय शेयर बाजार के साथ ही भारतीय मुद्रा बाजार पर भी आज साफ साफ नजर आ रहा है।

Leave a Comment

Advertisement
What does "money" mean to you?
  • Add your answer