‘वर्क फ्रॉम होम’ की नौकरी दिलाने के नाम पर 100 लोगों से ठगी के आरोप में तीन गिरफ्तार

विनीत माहेश्वरी (संवाददाता )

नई दिल्ली, 28 अगस्त  दिल्ली में कथित तौर पर ‘वर्क फ्रॉम होम’ नौकरी दिलाने के नाम पर 100 से
अधिक लोगों से ठगी करने के आरोप में एक महिला सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने
रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आरोपियों की पहचान राहुल सिंह (27), संध्या (21) और रोहित
कुमार दुबे (28) के तौर पर की गई है, जो रोजगार की तलाश कर रहे लोगों को निशाना बनाते थे। पुलिस ने
बताया कि आरोपी यह अपराध शानदार जिंदगी बिताने के लिए पैसे कमाने के वास्ते करते थे।
पुलिस ने बताया कि क्विकर डॉट कॉम पोस्ट के जरिये लोगों को अच्छी तनख्वाह पर ‘वर्क फ्रॉम होम’ (घर से ही
काम) नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी की गई। उन्होंने बताया कि आरोपी बेरोजगार लोगों से पंजीकरण और
साक्षात्कार शुल्क के नाम पर पैसे मांगते थे और रुपये मिलने के बाद गायब हो जाते थे। पुलिस ने बताया कि यह
मामला तब सामने आया जब अशोक विहार की एक युवती ने शिकायत की कि उसने ‘वर्क फ्रॉम होम’ नौकरी के
लिए क्विकर डॉट कॉम पर पंजीकरण कराया था।
पुलिस ने बताया कि शिकायत के मुताबिक 18 जून को पीड़िता को अनजान फोन नंबर से कॉल आया कि उसके
सीवी का चयन ‘वर्क फ्रॉम होम’ नौकरी के लिए कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि पीड़िता की बातचीत
आरोपियों से व्हाट्सऐप के जरिये हुई और उन्होंने उससे बतौर पंजीकरण शुल्क 2500 रुपये जमा कराने को कहा
जिसका भुगतान पीड़िता ने तत्काल कर दिया।
शिकायत के मुताबिक अगले दिन शिकायतकर्ता के पास आरोपी ने फोन कॉल किया और साक्षात्कार से पहले
4,500 रुपये जमा कराने के लिए कहा। साथ ही भरोसा दिया कि इस राशि का पुन: भुगतान पहले वेतन के साथ
कर दिया जाएगा और चयन नहीं होने की स्थिति में 24 घंटे में राशि लौटा दी जाएगी। पुलिस के मुताबिक
शिकायतकर्ता ने आरोपी के कहने पर 4,500 रुपये का भी भुगतान कर दिया। इसके बाद आरोपी ने उसका टेलीफोन
पर साक्षात्कार लिया और वेतन खाते के हिस्से के तौर पर 15 हजार रुपये का और भुगतान करने को कहा। पुलिस
अधिकारियों ने बताया, लेकिन इस बार पीड़िता ने राशि का भुगतान नहीं किया क्योंकि उसे ठगी का अहसास हो
गया।
पुलिस उपायुक्त (उत्तर पश्चिम दिल्ली) उषा रंगनानी ने बताया, ‘‘हमारी टीम ने तत्काल लाभार्थी के खाते की
जानकारी प्राप्त की और तकनीकी निगरानी शुरू की। गहन जांच की गई और आरोपी व्यक्ति को पकड़ने के लिए
खुफिया जानकारी प्राप्त करने के इरादे से सूत्रों को लगाया गया।’’ उन्होंने बताया, ‘‘प्राप्त सूचना और जानकारी के
विश्लेषण के आधार पर हमारी टीम ने नोएडा के सेक्टर-15 में छापेमारी कर दो आरोपियों राहुल सिंह और संध्या
को पकड़ लिया।’’ रंगनानी ने बताया कि पूछताछ के दौरान उन्होंने मामले में अपनी संलिप्तता स्वीकार की और
पूरी धोखाधड़ी के पीछे रोहित का दिमाग होने की जानकारी दी। उन्होंने सूचना के आधार पर तीसरे आरोपी रोहित
कुमार दुबे को भी पकड़ लिया। रंगनानी ने बताया कि दुबे ने खुलासा किया है कि उसने गत छह महीने में 100 से
अधिक लोगों के साथ ‘वर्क फ्रॉम होम’ नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी की है।

Leave a Comment