अमेरिका : टेक्सास में भारतीय-अमेरिकी महिलाओं से नस्ली दुर्व्यवहार, कहा ‘भारत वापस जाओ’

विनीत माहेश्वरी (संवाददाता )

वाशिंगटन, 26 अगस्त  अमेरिका के टेक्सास में एक मैक्सिकन-अमेरिकी महिला ने चार भारतीय-
अमेरिकी महिलाओं के साथ नस्ली दुर्व्यवहार और मारपीट की। आरोपी महिला ने भारतीय-अमेरिकी महिलाओं पर
नस्ली टिप्पणी करते हुए कहा कि वे अमेरिका को ‘बर्बाद’ कर रही हैं और उन्हें ‘भारत वापस चले जाना चाहिए।’

घटना बुधवार रात टेक्सास के डलास में एक पार्किंग क्षेत्र में हुई। आरोपी महिला को गिरफ्तार कर लिया गया है।
वह एक वीडियो में खुद को मैक्सिकन मूल की अमेरिकी नागरिक बताती और भारतीय-अमेरिकी महिलाओं पर
हमला करती नजर आ रही है।
एस्मेराल्डा अप्टन नाम की महिला वीडियो में यह कहती दिख रही है कि ‘मैं तुम भारतीयों से नफरत करती हूं।
भारतीय इसलिए अमेरिका आते हैं, क्योंकि वे एक बेहतर जिंदगी चाहते हैं।’’
‘सीबीएस न्यूज’ की खबर के अनुसार, वीडियो में आरोपी महिला भारतीय मूल की महिलाओं से यह भी कहती नजर
आ रही है कि ‘‘भारत वापस जाओ। तुम… लोग इस देश को बर्बाद कर रहे हो।’’
संबंधित वीडियो के सोशल मीडिया पर प्रसारित होने के बाद भारतीय-अमेरिकी समुदाय स्तब्ध है। इसमें अप्टन
नस्ली टिप्पणी करने के साथ-साथ कम से कम दो महिलाओं से मारपीट करती भी नजर आ रही हैं।
सोशल मीडिया पर वीडियो साझा करने वाले ने व्यक्ति ने लिखा, ‘‘यह घटना टेक्सास के डलास में मेरी मां और
उनकी तीन दोस्तों के साथ हुई।’’ वीडियो पोस्ट करने वाले व्यक्ति की मां को वीडियो में मैक्सिकन-अमेरिकी महिला
का विरोध करते और उससे नस्ली टिप्पणी न करने का अनुरोध करते हुए देखा जा सकता है।
वीडियो में आरोपी महिला यह भी कहती नजर आ रही है कि ‘‘मैं जहां भी जाती हूं… तुम भारतीय हर जगह मिल
जाते हो। अगर भारत में जीवन बेहतरीन है तो तुम यहां क्यों हो।’’ इसके बाद वह अपशब्द का इस्तेमाल करते हुए
चिल्लाती है और भारतीय-अमेरिकी महिलाओं के साथ मारपीट करने लगती है।
प्लानो पुलिस के अधिकारियों ने बृहस्पतिवार दोपहर आरोपी महिला को गिरफ्तार कर लिया। उस पर हमला करने,
शारीरिक चोट पहुंचाने और धमकी देने का आरोप लगाया गया है।
डेमोक्रेटिक पार्टी से नाता रखने वाली रीमा रसूल ने घटना की निंदा करते हुए ट्वीट किया, ‘‘यह बहुत भयावह है।
उसके पास वास्तव में एक हथियार था और वह गोली चलाना चाहती थी… इस महिला के खिलाफ नस्ली अपराध
का मुकदमा चलाया जाना चाहिए।’’
इस घटना की फिलहाल प्लानो पुलिस विभाग की ‘क्राइम अगेंस्ट पर्सन्स यूनिट’ द्वारा घृणा अपराध के तहत जांच
की जा रही है।
दक्षिण एशियाई अमेरिकी समुदाय से संबंध रखने वाले उत्तरी टेक्सास के संगठनों ने हमले की निंदा की और कहा
कि उन्हें यह जानकर राहत मिली है कि संदिग्ध को गिरफ्तार कर लिया गया है।
‘द डलास मॉर्निंग न्यूज’ की खबर के मुताबिक, ‘इंडिया एसोसिएशन ऑफ नॉर्थ टेक्सास’ के अध्यक्ष उर्मीत जुनेजा ने
कहा कि उन्हें लगता है कि उत्तरी टेक्सास दक्षिण एशियाई मूल के लोगों के लिए एक स्वागत योग्य और सुरक्षित
स्थान रहा है।

जुनेजा ने कहा, “हमें खुशी है कि अधिकारियों ने त्वरित कार्रवाई की और आरोपी को गिरफ्तार किया। फिर भी
हमारा मानना है कि उन्हें निष्पक्ष जांच करनी चाहिए, मामले की तह तक जाना चाहिए और इस घृणा अपराध की
जांच को निष्कर्ष तक पहुंचाना चाहिए।’’
खबर के अनुसार, ‘एशियन टेक्सन्स फॉर जस्टिस’ के प्रवक्ता सात्विक आहलूवालिया ने कहा, ‘‘प्लानो की घटना
मुझे उन कहानियों की याद दिलाती है, जो मेरे माता-पिता और उनके दोस्तों ने 9/11 के हमले के बाद मुझे बार-
बार सुनाई थीं। उन्होंने बताया था कि कैसे उनके साथी अमेरिकी उन्हें दुश्मनों के रूप में देखते थे।’’
‘साउथ एशियन अमेरिकन वोटर एंगेजमेंट’ की कार्यकारी निदेशक चंदा प्रभू ने एक बयान जारी कर कहा, ‘‘हमने
पार्किंग क्षेत्र में अपशब्द, शारीरिक हमले और नस्ली दुर्व्यवहार का सामना करने वाली महिलाओं की मदद की गुहार
सुनी, जो बेहद चिंताजनक और शर्मनाक है। लेकिन अब हम राहत महसूस कर रहे हैं कि हमारे समुदाय के सदस्य
सुरक्षित हैं।’’

Leave a Comment