गिल और गेंदबाजों ने भारत को जीत दिलाई, जिंबाब्वे का 3-0 से सूपड़ा साफ किया

Advertisement

विनीत माहेश्वरी (संवाददाता )

हरारे, 23 अगस्त शुभमन गिल के करियर के पहले अंतरराष्ट्रीय शतक के बाद गेंदबाजों के उम्दा
प्रदर्शन से भारत ने बेहद करीबी मैच में जिंबाब्वे को सोमवार को यहां 13 रन से हराकर तीन एकदिवसीय मैच की
श्रृंखला में 3-0 से क्लीनस्वीप किया। भारत के 290 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए जिंबाब्वे की टीम आवेश खान
(66 रन पर तीन विकेट), अक्षर पटेल (30 रन पर दो विकेट), कुलदीप यादव (38 रन पर दो विकेट) और दीपक
चाहर (75 रन पर दो विकेट) की धारदार गेंदबाजी के सामने 49.3 ओवर में 276 रन पर सिमट गई।
सिकंदर रजा (95 गेंद में 115 रन, नौ चौके, तीन छक्के) और ब्रेड इवान्स (28) ने आठवें विकेट के लिए 104 रन
जोड़कर उलटफेर की उम्मीद जगाई लेकिन टीम ने अंतिम तीन विकेट सिर्फ तीन रन पर गंवा दिए। सीन
विलियम्स (46 गेंद में 45 रन) ने भी उपयोगी पारी खेली। जिंबाब्वे के खिलाफ एकदिवसीय क्रिकेट में यह भारत
की लगातार 15वीं जीत है। भारत ने यहीं तीन जून 2010 को सात विकेट की हार के बाद से जिंबाब्वे के खिलाफ

कोई एकदिवसीय मैच नहीं गंवाया है। गिल ने 97 गेंद में 15 चौकों और एक छक्के की मदद से 130 रन की पारी
खेलने के अलावा इशान किशन (61 गेंद में 50 रन, छह चौके) के साथ तीसरे विकेट के लिए 140 रन की
साझेदारी की जिससे भारत ने आठ विकेट पर 289 रन का स्कोर खड़ा किया।
लक्ष्य का पीछा करने उतरे जिंबाब्वे ने तीसरे ओवर में ही इनोसेंट काइया (06) का विकेट गंवा दिया जिन्हें चाहर ने
पगबाधा किया। डीआरएस लेने पर फैसले भारत के पक्ष में गया। विलियम्स ने आते ही तेवर दिखाए। उन्होंने
आवेश पर चौका जड़ने के बाद चाहर पर भी दो चौके मारे। सलामी बल्लेबाज ताकुदवनाशे काइतानो ने आवेश पर
पुल से छक्का जड़ा लेकिन यह शॉट खेलने के दौरान चोटिल हो गए और उन्हें रिटायर्ड हर्ट होकर वापस लौटना
पड़ा। विलियम्स और टोनी मुनयोगा (15) ने टीम का स्कोर 82 रन तक पहुंचाया। अक्षर ने अपने पहले ही ओवर
में विलियम्स को पगबाधा करके इस साझेदारी को तोड़ा। उन्होंने अपनी पारी में सात चौके मारे। आवेश ने अगले
ओवर में मुनयोगा को भी कप्तान राहुल के हाथों कैच कराया। रजा अच्छी लय में नजर आए और उन्होंने अक्षर पर
दो चौके मारे। अक्षर ने जिंबाब्वे के कप्तान रेगिस चकाबवा (16) का कैच अपनी ही गेंद पर लपका।
काइतानो इसके बाद दोबारा बल्लेबाजी के लिए उतरे लेकिन अगले ओवर में कुलदीप की गेंद पर स्टंप हो गए
जिससे टीम का स्कोर पांच विकेट पर 122 रन हो गया। रजा ने चाहर पर चौका और छक्का मारा लेकिन इस तेज
गेंदबाज ने रेयान बर्ल (08) को धवन के हाथों कैच करा दिया। ल्यूक जोंगवे (14) ने भी चाहर की लगातार गेंदों पर
चौका और छक्का मारा लेकिन अगले ओवर में कुलदीप की गेंद पर गिल को कैच दे बैठे। रजा ने शारदुल की गेंद
पर एक रन के साथ 61 गेंद में अर्धशतक पूरा किया और फिर इसी ओवर में लगातार तीन चौके मारे।
जिंबाब्वे को अंतिम 10 ओवर में 95 रन की दरकार थी। रजा ने इवान्स के साथ मिलकर टीम को लक्ष्य के करीब
पहुंचाया। उन्होंने चाहर पर छक्का और फिर ठाकुर की गेंद पर एक रन के साथ सिर्फ 88 गेंद में शतक पूरा किया।
जिंबाब्वे को अंतिम तीन ओवर में 33 रन की जरूरत थी। रजा ने आवेश के 48वें ओवर में दो चौके और एक
छक्का जड़ा लेकिन इवान्स पगबाधा हो गए। अगले ओवर में गिल ने शारदुल की गेंद पर लांग आन पर रजा का
शानदार कैच पकड़कर मैच फिर भारत के पक्ष में मोड़ दिया। जिंबाब्वे को इस समय आठ गेंद में 15 रन की
जरूरत थी जबकि सिर्फ एक विकेट बचा था। आवेश ने विक्टर नायउची (00) को बोल्ड करके भारत को जीत
दिलाई।
भारत ने श्रृंखला में टॉस जीतकर पहली बार बल्लेबाजी करने का फैसला किया। मेहमान टीम हालांकि शुरुआत में
लय में नहीं दिखी और 15 ओवर में एक विकेट पर 63 रन ही बना सकी। दोनों अनुभवी सलामी बल्लेबाज कप्तान
लोकेश राहुल (46 गेंद में 30 रन) और शिखर धवन (68 गेंद में 40 रन) निराश होंगे कि अच्छी शुरुआत को बड़ी
पारी में नहीं बदल सके। चोट के कारण लंबे ब्रेक के बाद वापसी कर रहे राहुल को एशिया कप टी20 से पहले लय
हासिल करने का शानदार मौका मिला था। वह हालांकि तेज गेंदबाज ब्रेड इवान्स की गेंद को विकेटों पर खेल गए।
इवान्स ने 54 रन देकर पांच विकेट चटकाए। बल्लेबाजों के लिए पहले घंटे में बल्लेबाजी आसान नहीं थी। धवन
और राहुल की सलामी जोड़ी भी बड़ी पारी खेलने में नाकाम रही।
गिल और किशन के बीच की साझेदारी को छोड़ दिया जाए तो बाकी ओवरों में भारतीय बल्लेबाज उम्मीद के
मुताबिक नहीं खेल पाए। वेस्टइंडीज के खिलाफ श्रृंखला के साथ एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी करने
वाले गिल शानदार लय में दिखे और उन्होंने अपनी पारी में 15 चौके और एक छक्का जड़ा। बाइस साल के इस

खिलाड़ी ने मैदान में चारों ओर शॉट लगाए। उनके स्ट्रेट ड्राइव और कवर ड्राइव शानदार थे। गिल हालांकि 90 रन
बनाने के बाद थोड़े नर्वस दिखे लेकिन अंतत: शतक पूरा करने में सफल रहे। इवान्स ने गिल के खिलाफ पगबाधा
की विश्वसनीय अपील की जिससे मैदानी अंपायर ने ठुकरा दिया। डीआरएस लेने पर रीप्ले में दिखा कि गेंद गिल
के बल्ले से टकराने के बाद पैड से लगी। इसी गेंद पर किशन रन आउट हो गए जिन्होंने एक रन लेने की कोशिश
की लेकिन गिल का ध्यान अपील पर था और वह रन के लिए नहीं भागे।

Leave a Comment

Advertisement
What does "money" mean to you?
  • Add your answer